NEFT, RTGS और IMPS फ़ंड ट्रांसफ़र में क्या अंतर है, यहाँ विस्तार से जानें

February 21, 2020
Harshna Paroha

डिजिटल इंडिया (Digital India) के इस दौर में ऑनलाइन भुगतान (Online Payments) को काफ़ी बढ़ावा दिया जा रहा है। आजकल देश में नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फ़ंड ट्रांसफ़र (National Electronic Fund Transfer- NEFT), रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (Real Time Gross Settlement- RTGS) और इमिडिएट पेमेंट सर्विस (Immediate Mobile Payment Service- IMPS) से ऑनलाइन भुगतान किया जाता है। ज़्यादातर लोग पैसे भेजने के लिए इन्ही तीन तरीक़ों का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन बहुत कम लोग इनकी प्रणाली (Method) के बारे में विस्तार से जानते हैं। अगर आप भी उन्ही में से एक हैं, तो आज हम आपको यहाँ बताने जा रहे हैं कि NEFT, RTGS और IMPS क्या है और इनमें क्या अंतर है।


क्या है NEFT?:

नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फ़ंड्ज़ ट्रांसफ़र (NEFT) एक भुगतान (Payment) प्रणाली (Method) है, जिसकी सहायता से इलेक्ट्रॉनिक रूप से किसी भी बैंक शाखा (Bank Branch) से किसी अन्य बैंक शाखा या अकाउंट में पैसे भेजे जा सकते हैं। NEFT के माध्यम से भेजे गए पैसे का सेटलमेंट बैचों में किया जाता है।


क्या है RTGS?:

रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) एक अन्य भुगतान प्रणाली है, जिसमें पैसा रियल टाइम में और ग्रॉस बेसिस पर लाभार्थी (Beneficiary’s) के अकाउंट में जमा किया जाता है। RTGS मुख्य रूप से बड़े मूल्य के लेन-देन के लिए है और इसके माध्यम से पैसा तुरंत ट्रांसफ़र हो जाता है।


क्या है IMPS?:

इमिडिएट मोबाइल पेमेंट सर्विस (IMPS) एक रियल टाइम तत्काल (Instant) बैंक से बैंक फ़ंड ट्रांसफ़र प्रणाली है, जिसे राष्ट्रीय भुगतान निगम (National Payment Corporation) द्वारा मैनेज किया जाता है। IMPS सेवा पूरे साल 24×7 उपलब्ध है। यहाँ तक कि इसका इस्तेमाल बैंक छुट्टियों के दिनों में भी किया जा सकता है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि देश में बैंक खाता धारकों (Bank Account Holder) को सुविधा प्रदान करने और सरलता से फ़ंड ट्रांसफ़र करने के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक (Reserve Bank of India- RBI) द्वारा NEFT, RTGS और IMPS ऑनलाइन सर्विस शुरू की गई थी। इन फ़ंड ट्रांसफ़र सेवाओं (Fund Transfer Services) का उपयोग करने के लिए आपके पास लाभार्थी (Beneficiary) का नाम, बैंक खाता नंबर (Bank Account Number) और बैंक का IFSC कोड होना चाहिए।

NEFT, RTGS और IMPS में अंतर:

What is the difference between NEFT, RTGS and IMPS, know here in detail

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पहले RBI, NEFT और RTGS के माध्यम से लेन-देन के लिए बैंकों से न्यूनतम शुल्क (Minimum Charge) वसूलता था और इसके बदले में बैंक अपने ग्राहकों से यह शुल्क वसूलते थे। लेकिन अब RBI ने NEFT और RTGS पर शुल्क लगाना बंद कर दिया है और बैंकों को भी निर्देश दिया है कि वो अपने ग्राहकों से शुल्क लेना बंद करें।

हम आशा करते हैं कि NEFT, RTGS और IMPS से संबंधित हमारा यह ब्लॉग आपके लिए उपयोगी होगा। अगर इस ब्लॉग से जुड़े आपके कोई प्रश्न हैं, तो आप हमें कमेंट (Comment) सेक्शन में पूछ सकते हैं।

“अगर आप एक छोटे व्यवसायी हैं और अपने व्यवसाय के लिए Tally का इस्तेमाल करते हैं, तो अपने Tally Data को कभी भी-कहीं भी मोबाइल पर देखने के लिए आप हमारा FloProfit App डाउनलोड कर सकते हैं। आप FloProfit की मदद से अपने ग्राहकों को GST अनुरूप बिल भेज सकते हैं। साथ ही अपने स्टॉक को मैनेज, ख़र्चों को ट्रैक और कभी भी, कहीं भी कुशलतापूर्वक अपने सप्लायर को मैनेज कर सकते हैं। ज़्यादा जानकारी के लिए आप हमारी Website भी देख सकते हैं। इसके अलावा अगर आप अपने व्यवसाय के लिए Tally इस्तेमाल नहीं करते हैं, तो अपने स्टॉक को मैनेज करने, Bill बनाने और ग्राहकों से WhatsApp पर शेयर करने के लिए आप हमारा FloBooks App डाउनलोड कर सकते हैं। किसी अन्य सहायता के लिए आप हमारे कस्टमर केयर नंबर +91-7400297400 पर संपर्क कर सकते हैं।”

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of

हमारा ब्लॉग सब्सक्राइब करें

अपने व्यवसाय को विकसित करने के लिए बेहतरीन बिज़नेस टिप्स और MSME क्षेत्र में क्या नया और ट्रेंडिंग चल रहा है, उसकी जानकारी पाएँ।

Share This